Dalai Lama Thoughts in Hindi | दलाई लामा के अनमोल विचार

  • Dalai Lama Thoughts in Hindi | दलाई लामा के अनमोल विचार 

  • INTRODUCTION


QUOTE 1:यदि आप दूसरों की मदद कर सकते हो!, तो जरूर करे! यदि नहीं कर सकते है! तो कम से कम उन्हें नुकसान नही पहुचाइए!

QUOTE 2:जब भी कभी संभव हो! दयालु बने रहिये!यह हमेशा संभव है!

QUOTE 3:सभी प्रमुख धार्मिक परम्पराएं मूल रूप से एक ही संदेश देती है! वो है! प्रेम और दया,क्षमा,महत्वपूर्ण बात यह है! कि ये हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा होनी चाहिये!

QUOTE 4:प्रसन्ता पहले से निर्मित कोई चीज नहीं है! ये आप ही के कर्मों से आती है!

QUOTE 5:यदि आप दूसरों को खुश देखना चाहते है! तो करुणा का भाव रखिये! यदि आप खुद खुश रहना चाहते हैं! तो भी करुणा का भाव रखिये!

QUOTE 6:यह ज़रूरी है! कि हम अपना दृश्टिकोण और ह्रदय जितना हो सके हो अच्छा करे इसी से हमारे और अन्य लोगों के जीवन में अल्पकाल और दीर्घकाल दोनों में ही खुशियाँ आएगी!

QUOTE 7:यदि आपका कोई विशेष निष्ठा या धर्म है! तो अच्छा है! लेकिन आप उसके बिना भी जी सकते है!

QUOTE 8:प्रेम और करुणा आवश्कता है! विलासिता नहीं उनके बिना मानवता जीवित नहीं रह सकती है!

QUOTE 9:सहिष्णुता के अभ्यास में आपका शत्रु ही आपका सबसे अच्छा शिक्षक होता है!

QUOTE 10:काभी-२ लोग कुछ कह कर भी अपनी एक प्रभावशाली छाप बना देते है! और कभी-२ लोग चुप रहकर भी अपनी एक प्रभावशाली छाप बना देते है!

QUOTE 11:मेरा धर्म बहुत आसान है! मेरा धर्म दयालुता का है!

QUOTE 12:पुराने मित्र छूटते है! नए मित्र बनते है! यह दिनों की तरह ही है! एक पुराना दिन बीतता है! एक नया दिन आता है! महत्त्वपूर्ण यह है! कि हम उसे सार्थक बनाये एक सार्थक मित्र या एक सार्थक दिन

QUOTE 13:मंदिरों की जरुरत नहीं है! और ना ही जटिल तत्त्वज्ञान की मेरा मस्तिष्क और मेरा हृदय मेरे मंदिर है! मेरा दर्शन दयालुता है!

QUOTE 14:हमारे जीवन का प्रमुख उद्देश्य खुश रहना है!

QUOTE 15:अपनी क्षमताओं को जान कर और उनमे यकीन करके ही हम एक बेहतर विशव का निर्माण कर सकते है!

QUOTE 16:हम कभी भी बाहरी दुनिया में कभी शांति नहीं पा सकते है! जब तक की हम अन्दर से शांत ना हो सकते!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *