भारत की अर्थव्यवस्था आने वाले 25 साल में $25 ट्रिलियन के आकार में बढ़ सकती है: के.वी.कमाथ

0
92
kv-kamath-believes-indias-economy-could-grow-to-25-trillion-size-in-25-years
Credit-Moneyjugaad

के.वी. कामाथ, नेशनल बैंक फॉर फाइनेंसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर और डेवलपमेंट (NaBFID) के चेयरमैन, ने भारत की जीडीपी को आने वाले 25 वर्षों में $25 ट्रिलियन तक पहुँचने का पूर्वानुमान दिया है। उनके अनुसार, इस वृद्धि में डिजिटल फिंटेक कंपनियों का योगदान 25% से 30% तक हो सकता है। कामाथ ने भारत की आर्थिक उन्नति के लिए फिंटेक का महत्व बताया और इस बदलती प्रणाली में इसके साथ चलने की आवश्यकता को भी महत्वपूर्ण माना है ।

भारतीय फिंटेक उद्योग के तेज विकास के कारण पारंपरिक बैंकों को तकनीकी क्षमताओं में बढ़ावा देने की चुनौती है, जिसके परिणामस्वरूप वे अपने तकनीकी प्रक्रियाओं को अद्यतन करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। कामाथ ने पारंपरिक स्टॉकब्रोकर्स के खिलाड़ियों को पूरी तरह से डिजिटल स्टॉकब्रोकिंग कंपनियों के हाथों हारने का उदाहरण दिया, उन्होंने इस बात को जोर दिया कि पारंपरिक खिलाड़ी को इस फिंटेक-संचालित परिपर्ण प्रायोजन में प्रतिस्पर्धा करने के लिए उनकी प्रक्रियाओं को सुधारना होगा।

कामाथ ने फिंटेक कंपनियों के विकास के साथ ही लाभ की प्राप्ति की महत्वपूर्णता को भी बताया है। जबकि फिंटेक कंपनियाँ पहले से ही इसके समाधान में भारी निवेश कर सकती हैं, तो उन्हें लाभ उत्पन्न करने के साथ ही सतत मार्ग विकसित करने की आवश्यकता है। इसका परिणामस्वरूप, यह उनके मूल्यमापन को निर्धारित करेगा।

भारत को उसके वैश्विक समकक्ष, चीन, के साथ तुलना करते समय, कामाथ ने दिलचस्प कथन दिया है। उन्होंने ध्यान दिलाया कि भारतीय बैंकों ने अपने डिजिटल प्रौद्योगिकी में चीन के खिलाड़ियों को आश्चर्यचकित कर दिया है, इससे यह सूचित होता है कि भारत ने प्रौद्योगिकी का सहारा लेते हुए इसमें काफी प्रगति की है, जिसके चलते दुनियाभर में डेटा की पहुँच को बढ़ावा देने में मदद मिल रही है। इस पहुँच ने बाज़ार को एक विश्वस्तर मूल्य पर डिजिटल अर्थव्यवस्था में भाग लेने की शक्ति प्रदान की है।

संक्षेप में, के.वी. कामाथ के भविष्यवाणी दृष्टिकोण ने भारतीय फिंटेक सेक्टर के अद्भुत संभावनाओं की ओर प्रकाश डाला है, वे इसे भी महत्वपूर्ण मानते हैं कि पारंपरिक बैंक और फिंटेक कंपनियों को इस बदलते वित्तीय मानचित्र में साथ चलने और प्रतिस्पर्धा करने की आवश्यकता है। जब भारत अपने लक्ष्यों को $25 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ा रहा है, तो स्पष्ट है कि फिंटेक इस अद्भुत यात्रा में मुख्य भूमिका निभाएगा और देश के वित्त बाज़ार को भविष्य में आकार भी देगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here